Ad Code

Ticker

6/recent/ticker-posts

शरीर के 7 चक्र को संतुलित कैसे करें । Shareer ke 7 chakra in hindi

शरीर के 7 चक्र को संतुलित कैसे करें ।Shareer ke 7 chakra in hindi


शेयर के 7 चक्रों का संतुलन कैसे करे


Shareer ke 7 chakra in hindi. मानव शरीर शक्तियों का केंद्र है । ये शक्तियां विभिन्न चक्रो में विभाजित है । इन शक्तियों के केंद्र को चक्र कहा गया है । हमारे शरीर में 7 चक्र होते है । पहले चक्र को रुट चक्र  जो रीढ़ की हड्डी के नीचे स्थित होता है वही अंतिम चक्र सिर में स्थित होता है । ये चक्र एक दूसरे से जुड़े हुए होते है । यही कारण है कि इनका संतुलन बनाए रखना बहुत जरूरी है । Shareer ke 7 chakro ka santulan kaise kare ? रेकी और चक्र दोनों एक दुसरे में गुथे हुये है । चक्र और रेकी दोनों अलग - अलग Tradition से आये हुये है लेकिन आपस में इतना गहरा संबंध बनाये हुये हैं कि रेकी में अगर आप चक्र Balancing नहीं जानते तो आपकी रेकी energy रेकी healing भी आपकी अधूरी है क्योंकि चक्र हमारे शरीर का Important Part है । shareer ke 7 chakra in hindi-


1. चक्र का अर्थ - what is chakra in hindi -

 संस्कृत में चक्रम कहते है । एक संस्कृत शब्द हैं जिसका सामान्य अर्थ पहिया या घुमना है । यानी हमारे शरीर में एक केंद्र से दूसरे केंद्र तक घूमते रहते है । हमारे शरीर में कुल 114 चक्र है । जिसमे से 108 चक्र क्रियाशील है जो कि हमारे शरीर को संचालित करते है । यह चक्र हमारे शरीर में नाडीयो का मिलन या संगम स्थान होता है । यह संगम त्रिकोण की शकल में होता है । 

शरीर के 7 चक्रो के नाम - shareer ke 7 chakro ke nam -

मुख्य रुप से हमारे शरीर के विभिन्न पहलू से जुडे होते है तो आइये जानते हैं यह 7 चक्र कोनसे हैं इनका नाम, रंग, मुल शरीर में इनकी क्या स्थिती है । -


1. मूलाधार चक्र ( Root Chakra ) -   यह लाल रंग का होता है । यह चक्र हमारी रीढ की हड्डी के आधार पर स्थित है । यह कुंडलिनी शक्ति का अहम स्थान है । इसे भोम मंडल भी कहा जाता है । अगर आप अपने जीवन में असुरक्षित महसूस करते हों, डर की भावना सताती हैं आपको तो निसंदेह आपका मुलाधार चक्र Block या Imbalance है । जिसको ठीक करने की जरुरत है । हमारा पूर्व लेख कुंडलिनी शक्ति जागृत कैसे करें पढ़े ।


2. सवधिसथाना चक्र ( Sacral Chakra ) -  यह चक्र नाभी से 2 इंच नीचे होता है । इसका रंग नारंगी है । यह चक्र हमारी Emotion पहचान बनाता है । यदि आप बहुत ज्यादा Emotional है आपको चिंता सताती रहती हैं तो इसका कारण Sacral Chakra का Block होना या Imbalance होना होता है ।


3. मनीपुर चक्र ( सौर जाल चक्र ) - यह चक्र हमारे नाभी से टोडा उपर है। कल्याण कलेजा है। यह सामाजिक सामाजिक आईडी और प्रतिबद्धता है । आप को कमिट की कमी है आप दुश्मन के लिए कह रहे हैं मन की बात है तो चक्री इस संतुलन को कम करेगा।


4. अनाहत चक्र ( हार्ट चक्र ) - यह चक्र छाती में दोनों निपल के बीच में होता है। मौसम खराब है । यह चक्र मन, आत्मा को एक साथ काम करता है । इससे परमात्मा की आवाज की सुना जा सकता हैं । इसके बारे में आप हमारा पूर्व का  Anhad naad क्या है अनाहद नाद से दिव्य आवाज कैसे सुने  


5. विशुद्ध चक्र ( गला चक्र) - यह स्थिति में है। रंग साँवला निला है । अगर आपको बोलने में परेशानी होती है, हकलाहट है, बोलते वक्त आप अपनी बात को दुसरो के सामने जाहीर नहीं कर पा रहें हैं आपके शब्द दुसरो को बेवजह बुरे लग रहे हैं तो आप समझ ले की आपका गला चक्र असंतुलन है।


6. अजन चक्र ( तीसरा नेत्र चक्र ) - यह दोनो भुआओं के बीच में 'भुकोटी' है। जहा हम तिलक है। वहावि. रंग का रंग निला है। आप अपनी अंतर्ज्ञान शक्ति को शक्ति प्राप्त कर सकते हैं। सूचना चक्र के बारे में हमारे पूर्व सूचना  थर्ड आई चक्र  चक्र के बारे में  ।


7. सहसवर चक्र (क्राउन चक्र) - यह हमारे सिर की चोटी पर है। यह हमारे सूक्ष्म शरीर का आखरी चक्र है। बैंगन बैंगन है। जब तक जांच की जाए, तब तक खोजकर्ता पूरी तरह से जमा हो जाएगा . आप अवसाद में रहते हैं, यह नकारात्मक है । अपनी खुशी खो गया है। निश्चित रूप से आपके क्राउन चक्र का संतुलन ब्लॉक है। संतुलन संतुलन की आवश्यकता है । यही मुख्य रूप से Shareer ke 7 chakra in hindi है ।


चक्र ध्यान हिंदी में

चक्र को पूरा कैसे करें - शेयर के 7 चक्रों का कैसे करें ? Shareer ke 7 chakra in hindi

हम जानते हैं कि हमारे शरीर में 7 चक्र हैं जो प्रमुख हमारे चक्र हैं वे 7 चक्र हैं। ये चक्र पहिया जो किस प्रकार का 7 पहिया है रहे घुमाएँ। जो पूरे शरीर में ऊर्जा को घुमाते हैं। ऊर्जा संतुलन को नियंत्रित करता है। सौर ऊर्जा को पूरे चक्र में घुमाया जाता है। स्वस्थ रहें और स्वस्थ रहें। 

यह हमारे जीवन में समस्याएं पैदा कर रहा है या नहीं, यह शरीर के किसी भी अंग से जुड़ा हुआ है। किसी भी तरह की कोई भी भावना हमारे शरीर में किसी भी तरह से एक चक्रीय असंतुलन के कारण होती है, जो हमारे शरीर से संबंधित अंगों में होती है। चक्र संतुलन बनाना आज हम खतरनाक हैं कि रेकी में चक्र संतुलन कैसे है। 7 चक्र को संतुलन बनाने की 3 - 4 विधि है।


7 Chakra meditation in hindi

जब आपको चक्र संतुलित करने हो तो सबसे पहले आप अपने हाथों आपने जिस तरिके से रेकी को Call करना सिखा हो उस तरिके से रेकी शक्ति को अपने हाथो में Call करके रखे जो Level पर आप हैं उस level के symbols Draw कर लें । हवा में Symbol draw करले ताकि आपको ऊर्जा मिलती रहे । अगर आप Master level पर हैं तो सामने एक बड़ा सा डायक्योनियों आप बना के हवा में रखे । ताकि डायक्योनियो की energy भी आपको साथ में मिलती रहे ।


7 चक्र को संतुलित करने के आसन । Shareer ke 7 chakra in hindi

 जब योग और मुद्रा का अभ्यास किया जाता हैं तो चक्र संतुलित हो जाते हैं और हमारी प्रणाली को शारिरिक और भावनात्मक दोनो ही तरह से एक Stable, balance तरीके से कार्य करने में सक्षम बनाते है । इनमें कुछ योगासन शामिल है ।

1. ताडासन / पर्वत आसन - यह आसन धरती से आपके संबंध को उन्नत करता हैं, आपको अपने शरीर से जोडता है । वर्तमान क्षण में आपको स्थापित करता है ।

2. सेतुबंधन / पुल्ल मुद्रा - यह आपके योग के आधार पर मूल चक्रमुद्रा है, जो आपके योग में स्थिर है और आपकी रीढ की को अत्याधिक मात्राओं में मुलाधार चक्र की मुद्रा को मुफ्त में प्रज्ञापित किया जाता है । सेतुद्रा के चक्र को भी प्रभावित करता है। हृदय और सौर जाल चक्र को ऐसा ही है। त्रिक चक्र को बैलेंस रखता है।


अभिलाषा देशपांडे

Post Navi

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Ad Code