Ad Code

Ticker

6/recent/ticker-posts

zen meditation techniques. जेन मेडिटेशन एवं फायदे

zen meditation techniques. जेन मेडिटेशन एवं फायदे


zen meditation techniques.


मित्रों sahitydrshan पर आप सभी का बहुत बहुत स्वागत है । Meditation की कड़ी में आज हम zen meditation techniques के बारे में बताने जा रहे है । कहते हैं अपने विचारो पर React होना यह मनुष्य का स्वभाव होता है । अपने विचारों पर नियंत्रण रखना इंसान के लिये बेहद मुश्कील है । आज हम जिस ध्यान की बात करने जा रहे हैं उसका नाम हैं Zazen / Zen mediation । जेन mediation ध्यान जपान में या चायना में चलता हैं और यह बुध्दा द्वारा भगवान गौतम बुध्द और उनके द्वारा यह ध्यान दिया की अनेक विधियां है ।  इस जगत में विभिन्न प्रकार के ध्यान हैं पर zen mediation सर्वश्रेष्ठ ध्यान हैं, क्योंकि यह simple Dhyan हैं इसमें कुछ करने की जरुरत नहीं है । ना कोई chanting  ना Mantra ना कहीं भी आपको focus करना है । यह आसान ध्यान है । इसको आप किसी भी वक्त कर सकते हैं । तो चलिए जानते है zen meditation techniques जेन मेडिटेशन एवं उनके फायदे -


Zen मेडिटेशन की उत्पत्ति

इस मेडिटेशन का निर्माण बौद्ध धर्म ने किया था । बौद्ध धर्म  एक महान भारतीय बौद्ध भिक्षू एवं विलक्षण योगी थे । इन्होंने 520/526 ई में चीन जाकर ध्यान संप्रदाय झेन का निर्माण किया । ये दक्षिण  भारत के कांचीपुरम के राजा सुगंध के 3 रे पुत्र थे । इन्होने अपनी चीन यात्रा समुद्री मार्ग से की । भारत में बोधिधर्म इस परंपरा के 28 वे और अंतिम गुरु रहे ।  

कैन प्रांत के जो गुरु थे मुकुराई । एक शांत तुफान थे । उनके पास एक तोयो नामका छोटा बालक था तोयो देखता के पुराने शिष्य प्रत्येक सुबह शाम व्यक्तिगत निर्देशों के लिये गुरु के कमरे में जाते थे जिसे Sanzen कहा जाता है । तोयो को भी sanzen की आकांक्षा हुई । अभी प्रतिक्षा करो मुकुराईने कहा । तुम बहोत छोटे हों पर बच्चेने जिद्द की और शिक्षक अततः मान गये ।

संध्या समय छोटा तोयो निर्धारित समयपर गुरु के कमरे पर sanzen हेतू गया उसने अपनी उपस्थिती की घोषणा हेतू घंटा बजाया । द्वार के बाहर सन्मान पूर्व झुका और गुरुके समक्ष आदरपूर्ण मौन में बैठ गया । " तुम दोनो हाथों द्वारा ताली बजाने पर उत्पन्न ध्वनी को सुन सकते हो zen गुरु ने कहा, मुझे एक हाथ के ताली की आवाज दिखाओ ? तोयो अभिवादन में झुका और समस्या पर विचार हेतू अपने कक्ष में आया वह खिडकी से उसने तृषा का संगीत सुना ऐसे ही अनगिणत ध्वनियां सुनी लेकिन सभी नकार दी गई ।

ऐसे ही एक साल पूरा हुआ । अततः वे  हताश हो गया । अततः तोयो वास्तविक ध्यान में प्रविष्ट हो गया और सभी ध्वनियां का अतिक्रमण कर गया । उसने कहा " में कोई ध्वनि एकत्र नहीं कर पाया ? आखिरकार वो शून्यता में पहुंच गया । " The Sound less Sound " तोयो ने एक हाथ की तालीका अनुभव कर लिया था ।


जेन ध्यान क्या हैं ? What is zen meditation ?

जेन ध्यान /जजेन के नाम से भी मशहुर है । यह एक चीनी बौद्ध धर्म ध्यान अभ्यास हैं । बौधिधर्म ने जेन की शुरुआत की । Zen  एक स्वाद है । एक दृष्टिकोण हैं, जो जीवन को देखने का । Zen  एक ढंग हैं, कला है । आस्था नहीं प्रयोग इसका आधार है । Zen meditation से चेतन मन ( Conscious mind ) से अवचेतन मन ( unconscious mind ) की बढ़ता है । इसे Mindfulness meditation भी कहा जाता है । यह मेडिटेशन बिना किसी आस्था से बल्कि एक तकनीक से कार्य करता है ।


जेन शब्द का अर्थ - 

इसका शाब्दिक अर्थ ध्यान माना जाता है । इसकी शुरूआत महात्मा महाकश्यप ने की थी । Zen का विकास चीन में लगभग 500 ईस्वी में हुआ । इसे बुद्ध ध्यान भी कहा जाता है ।

सरल शब्दों में Zen meditation एक ऐसी सरल विधि है । एक ऐसा ध्यान है जो साधक को शारीरिक एवं मानसिक रूप से शांति प्रदान करता है । एक ऐसी सरल techniques है जो बिना किसी मंत्र या आस्था से मन को आत्मा से जोड़ता है ।


zen meditation techniques -

  • आसन - आसन, जेन ध्यान के सबसे Important कारकों में से एक हैं, लेकिन इससे पहले आप ढीले ढाले वस्त्र पहने । zen मेडिटेशन के लिए सुखासन एवं पध्यासन का उपयोग करना सबसे अच्छा माना गया है । मगर ध्यान रखें कि आपकी रीढ़ सीधी हो ।
  • पोजीशन - अब पूर्ण /आधे कमल की position में बैठे । अपने हाथों से लौकिंक मुद्रा बनाये और इसे बनाये रखे । यह मन में स्थिरता लाने में help करता हैं ।
  • सांस का सही तारिका - जेन ध्यान में आपकों अपना मुंह बंद रखकर अपनी नाक से सांस लेनी  होती है । सांस लेते समय अपनी श्वास पर ध्यान दें । मन में आ रहे विचारों को न रोके । धीरे धीरे आप स्वत् ही विचार शून्य हो जाएंगे ।
  • दिमाख शांत रखे - Zen ध्यान के समय जो भी विचार हो उसकी मौजुदगी आपकों महसूस करनी नहीं है । बस उन्हें जाने देना है । चाहें वो सकारात्मक विचार हो या नकारात्मक बस आपकों अपना Mind शांत रखना है । आपको उस विचारों पर ध्यान न देते हुये बस शांत रहना है । ताकि आपके भीतर दबी हुये negative thinking  से आप आजाद हो सकें ।
  • Zen / Zezen Meditation के दौरान आपकी आंखें खुली रखे या बंद । ये आपकी स्वेच्छा पर निर्भर करता है क्योंकि इस ध्यान को आप स्थिति में कर सकते है । 

How to do zen meditation.


Benefits of zen meditation techniques -

यह एक सरल तकनीक हैं, लेकिन मुख्य लाभ के साथ है । यह न केवल आपकों mentally  बल्कि physically  भी सहायक हैं । यह उन लोगों किसी उपाय से कम नहीं हैं, जो लगातार तनाव से निपटते है । इससे छूटकारा पाने का प्रयास करता है । चलिए जानते जेन मेडिटेशन एवं उनके फायदे -

  1. जेन मेडिटेशन में मन में आने वाले सकारात्म क और नकारात्मक विचारों को बाहर आने देने में यह मेडिटेशन सहायता करता हैं ।
  2. ध्यान करने से न केवल मन को शांति मिलती है बल्कि सेहत की दृष्टि से लाभदायक है । नींद भी अच्छी आएगी ।
  3. आज की बदलती परिस्थितियों में Zen meditation दिमागी रूप से तनाव से मुक्त करके शांति प्रदान करता है । यह Mindfulness के लिए उपयोगी है । 
  4. अब तक के रिसर्च में पाया है कि Zen/ Zezen meditation आत्म नियंत्रण पाने के लिए बहुत ही उपयोगी है । self control से self confidence बढ़ता है । जिसे किसी भी कार्य को शांतिपूर्ण तरीके से करने सफल होते है । यहां तक की साधक आत्म संयम रखने में सफल रहते है ।
  5. कुछ लोगों में विचारों भटकाव की स्थिति बनी हुई रहती है इसलिए खुद पर फोकस नहीं कर सकते है । शोधकर्ताओं ने शोध में पाया कि Zen meditation के साधकों में खुद पर फोकस करने या खुद से प्यार करने ( Self love ) की अद्भुत क्षमता का विकास हुआ है ।
  6. जेन मेडिटेशन एक ऐसी विधि है जिसे साधक अपने शरीर, दिमाग एवं ह्रदय को एक दूसरे से जोड़ता है । जिसे भीतर की नकारात्मक सोच को बाहर निकलता है । गलत आदतों का सफाया करने में सफल रहता है । यहां तक कि कुछ प्रयासों से ही नशे जैसी बुरी आदत को भी अपने भीतर से रिमूव कर सकता है । 
  7. Zen meditation techniques से साधक मानसिक, शारीरिक एवं भावात्मक रूप से सबल प्रदान करता है । 


मेडिटेशन के विभिन्न प्रकार ( Types of Meditation ) 

 1. Zen meditation -  यह मेडिटेशन का एक बौद्ध परंपरा का हिस्सा है । इसका अभ्यास एक ट्रेंड प्रोफेशनल के मार्गदर्शन में करना चाहिये । इसके  अभ्यास में कुछ विशेष स्टेप्स और आसन शामिल होते है । आपको तनाव दूर करके रिलँक्शन देता हैं ।

2. Spiritual mediation  - हिंदू और ईसाई धर्म में अध्यात्मिक ध्यान आपकों अपने ईश्वर के समेत एक गहरा संबंध बनाने में सहायता करता है । इस ध्यान का अभ्यास करने के लिये आपको इतना सुनिश्चित करना है ।

3.  Mantra Mediation  -  मंत्र एक संस्कृत शब्द है । जो दो शब्दों से मिलाकर बना है । मन जिसका मतलब हैं मस्तिष्क" /सोचना और त्राई जिसका अर्थ है रक्षा करना । यह मेडिटेशन निगेटिव विचारों से दूर करके इसे सकारात्मकता की ओर ले जाता है ।

4.  Mindfulness mediation  - यह मेडिटेशन ध्यान का एक रुप हैं जो अभ्यास करने वाले व्यक्ति को वर्तमान में जागरुक और उपस्थित रहने में मदद करता है । इसका अभ्यास कहीं भी कभी भी किया जा सकता है ।


 How to do Zen meditation -

यूँ तो आजकल वीडियो, पुस्तकें एवं बहुत सारे आर्टिकल की मदद से कर सकते है । इसी प्रकार बौद्ध मन्दिरो में इस ध्यान की अच्छी व्यवस्था मिल जाएगी । फिर हम आपको कुछ step बताने जा रहे तो चलिए जानते है - Zen meditation kaise kare -

  • Simple sitting करनी हैं ।
  •  spine straight रहें ।
  • आप जमीम पर comfortably sitting कर सकते है ।
  • यदि आप नहीं बैठ सकते है तो chair  का use करें ।
  • आपकी hand की position  आपके दो पैरो के बीच रखें ।
  • Left hand  जो होगा वो नीचे रहेगा और Right hand उसके उपर रहेगा ।
  • Thumb एक - दुसरे को Touch करें । यह बहुत आरामदायक position  हैं, मगर आपकी जो spine  हैं वो सीधी रहेगी ।
  • इस ध्यान की कोई technique  नहीं है ।
  • इसको करने के लिये आप अपनी आंखे आधी खूली रख सकते है ।
  • आपको बैठकर Body  को Relax होने देना है ।
  • zen meditation / zazen dhyan /  जेन ध्यान के अंतर्गत आप बाहर की आवाजें सुन सकते है ।
  • simply  silently & doing nothing!
  • इस  dhyan को आप morning /afternoon / किसी भी समय कर सकते है ।
  • Important point ये हैं की आप नींद में ना जाये ।
  • आप Aware  रहें ।

आप इस ध्यान को सच में अपने दिल से करते हैं, तो  आप देखेंगे आपके विचार आपको परेशान करना बंद कर देंगे आपकी जो feelings  हैं, emotions हैं वो आप को परेशान करना बंद कर देंगे ।


FAQ 

Q.  झेन मेडिटेशन की उत्पत्ति कब हुई ?

  जबाब - 520-526  ई में बौधिधर्म ने चीन जाकर इस ध्यान का निर्माण किया था ।

 Q. Zen का अर्थ क्या हैं ? 

  जबाब - इसका शाब्दिक अर्थ ध्यान माना जाता है ।

 Q. जेन ध्यान क्या हैं ? What is zen ?

 जबाब - यह एक चीनी बोध्द धर्म ध्यान अभ्यास है । जो ध्यान करने का एक आसान तरीका है ।  

Q. Mediation कितने प्रकार के होते है ?

 जबाब - जेन मेडिटेशन, कुंडलिनी योग मेडिटेशन, अध्यात्मिक मेडिटेशन, मंत्र मेडिटेशन , माइंडफुलनेस मेडिटेशन आदि ।

Q. जेन मेडिटेशन से क्या लाभ  हैं ?

जबाब  - यह ध्यान आपको न केवल mentally  बल्कि physically  भी  Strong  करता है ।


Q. Zen meditation के लिए कौनसा आसन सही है ?

जबाब - जेन मेडिटेशन के सुखासन एवं पध्यासन से कर सकते है । 

Q. मेडिटेशन कब करना चाहिए ?

जबाब - मेडिटेशन करने का सही समय सुबह, शाम एवं दोपहर के समय करना चाहिए । मगर ध्यान रखें खाली पेट या खाना खाने के 4 घण्टे बाद करना चाहिए ।

  - अभिलाषा देशपांडे


Read more posts -

Anhad naad meditation क्या है ? अनहद नाद से दिव्य आवाज कैसे सुने 

शरीर के 7 चक्र को संतुलित कैसे करें

Meditation क्या है ? घर पर मेडिटेशन कैसे करें 

Post Navi

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Ad Code